एनजीओ खजाना घोटाले के राजनीतिक संरक्षण को CBI जाँच के दायरे में लाओ : कुणाल

माले राज्य सचिव कुणाल ने कहा कि नीतीश कुमार ने एनजीओ खजाना घोटाले की सीबीआई जांच की तो अनुशंसा की है, लेकिन उसके राजनीतिक संरक्षण की जांच से मुंह चुरा लिया है. सीबीआई जांच में राजनीतिक संरक्षण व पूरे तंत्र को लाया जाना चाहिए, जो घोटाले के लिए मुख्य रूप से जिम्मेवार है. नीतीश सरकार टाॅपर घोटाले की तरह इसके महज आपराधिक पहलू और छोटी मछलियों को निशाना बना कर मामले की लीपापोती करना चाहती है. हमारी मांग है कि घोटाले के राजनीतिक संरक्षण की सीबीआई जांच होनी चाहिए. भाजपा नेताओं द्वारा घोटालेबाजों को संरक्षण देने के स्पष्ट प्रमाण मिल रहे हैं. साथ ही, वित्त मंत्री सुशील मोदी के इस्तीफे पर सरकार ने अब तक चुपी कायम कर रखी है. सुशील मोदी को अविलंब बर्खास्त किया जाना चाहिए.

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: