वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति को हटाओ : आइसा

सेवा में,
श्रीमान मुख्यमंत्री, बिहार

विषय- वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के कुलपति को हटाने के संबंध में ।

महाशय,
हमारा छात्र संगठन ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन(आइसा) एक राष्ट्रीय छात्र संगठन है और बिहार के कई विश्वविद्यालय और कॉलेजों में इकाई है। वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय के लगभग सभी कॉलेजों में आइसा की इकाई है और पिछले छात्र संघ चुनाव में आइसा छात्रों का अपार समर्थन हासिल करते हुए कई कॉलेजों में प्रमुख पदों पर जीत दर्ज किया है।
महाशय, आइसा अपने स्थापना से हीं समाज दलित-गरीब, कमजोर वर्ग के शिक्षा के अधिकार के लिए विश्वविद्यालय कैंपसों में छात्र-शिक्षक-कर्मचारियों के मान-सम्मान, बेहतर शैक्षणिक माहौल के लिए संघर्षरत रहा है।

महाशय, आइसा अपने इसी परंपरा को आगे बढ़ाते हुए वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय में जहाँ पर घोर शैक्षणिक अराजकता कायम है अकैडमिक कैलेंडर पूरी तरह से फेल है। न समय से परीक्षा ली जाती है न समय से उसका परीक्षा परिणाम घोषित होता है। सत्र महीनों विलंब चलता है जिसके वजह से छात्र कई तरह के प्रतियोगी परीक्षाओं के फॉर्म या दूसरे विश्वविद्यालयों में नामांकन ले पाते हैं। कॉलेजों में मूलभूत सुविधाओं का घोर अभाव है। प्रयाप्त शिक्षक-प्रोफेसर तक नहीं हैं जिसके वजह से नियमित कक्षाएं नहीं चलती। हर साल नामांकन में धांधली होती है। विश्वविद्यालय महज एक डिग्री देने का केंद्र बना हुआ है। साथ ही साथ कैंपस का माहौल भी खराब चल रहा है। यहाँ विश्वविद्यालय के कैंपस में आरएसएस की शाखा चलाई जा रही है। इतना ही नहीं एस. बी. कॉलेज मौलाबाग आरा में आरएसएस के एक कार्यक्रम में कुलपति महोदय बतौर मुख्यातिथि आमंत्रित भी थे। विश्वविद्यालय एक शैक्षणिक केंद्र है और विश्वविद्यालय कैंपस में किसी खास राजनीतिक पार्टी के कार्यक्रम को लागू करना, उनकी शाखाएँ चलाना विश्वविद्यालय की गरिमा को धूमिल करता है और शैक्षणिक माहौल को भी खराब करता है। इन तमाम सवालों को हल करने के लिए विश्वविद्यालय के अधिकारियों से लगातार वार्ता की गई लेकिन समस्याएं यथावत बनी रही। पिछले दिनों स्नातक भाग-3 का परीक्षा परिणाम समय से घोषित नहीं होने के वजह से कई छात्र-छात्राएं BPSC और सुपरवाइजर का फॉर्म भरने से वंचित रह गए। मजबूरन संगठन को स्नातक भाग-3 का परीक्षा परिणाम प्रकाशित करने के लिए कुलपति के समक्ष एकदिवसीय प्रदर्शन किया गया। लेकिन हमारी मांगों को सुनने के बजाए कुलपति द्वारा सामंती और राजनीतिक पूर्वाग्रह से ग्रसित होकर छात्रों को माथा ठीक कर देने की धमकी दी गई और हमारे आइसा के तीन छात्र नेताओं पर FIR दर्ज कर दिया गया, जो कि पूरी तरह से असंवैधानिक है।

अतः ऐसे कुलपति के रहने से वीर कुंवर सिंह विश्वविद्यालय का शैक्षणिक माहौल खराब हो रहा है और विश्वविद्यालय की छवि को भी धूमिल किया जा रहा है। इसलिए हमारी माँग है कि ऐसे कुलपति को यहाँ से हटाया जाए।

निवेदक
आइसा

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: