यह चौकीदार को बर्खास्त करने का चुनाव है : Dipankar

कॉमरेड दीपंकर ने 22 अप्रैल को कॉमरेड राजाराम सिंह के नामांकन के अवसर पर नासरीगंज में आयोजित सभा को संबोधित करते कहा कि यह सुखद संयोग है कि आज लेनिन के जन्मदिन का 149वीं और माले के स्थापना की 50वीं वर्षगांठ भी है।कॉमरेड राजाराम सिंह ने हमेशा इस इलाके के मुद्दों को लेकर लड़ाई लड़ते रहे हैं।अभी जब जनता के बीच प्रधानमंत्री मोदी को चुनाव की परीक्षा देनी है तो वे किसानों-मज़दूरों-अब तक कि सबसे भयावह बेरोजगारी दर,युवाओं को रोजगार, नोटबन्दी जैसे सवालों से भागकर एक अलग प्रश्न-पत्र तैयार कर लिया और जनता से पुलवामा के शहीदों के नाम पर वोट मांग रहे।यहां तक कि श्रीलंका में आतंकी हमलों में मारे गए लोगों के नाम पर वोट मांग रहे।उन्होंने कहा कि मोदी जी कान खोल कर सुन लीजिए जो भी राष्ट्रवासी पुलवामा के शहीदों को याद कर वोट देंगे वह आपके और भाजपा के खिलाफ जायगा।बर्फवारी में फंसे पुलवामा में आतंकी हमले में शहीद हुए जवानों ने प्रधानमंत्री मोदी जी से एयरलिफ्ट करने का अनुरोध किया था क्योंकि देश की खुफिया एजेंसियों ने आतंकी हमले की आशंका जताई थी पर आपने पैसे की की कमी का बहाना बना उन जवानों को यह सुविधा नही दी पर खुद के प्रचार पर देश की तिजोरी से 5,000 करोड़ रुपये से ज्यादा खर्च करने में लिए आपके पास पैसे थे।फिर अगर आप अगर देश के चौकीदार हैं तो पुलवामा में इतना बड़ा आतंकी हमला चौकीदार के रहते हुए कैसे हो गया?इसलिए देश की जनता चुनाव में इस चौकीदार को बर्खास्त करने का काम करेगी। आज प्रधानमंत्री मोदी जी सब मारे गए लोगों के नाम पर वोट मांग रहे हैं तो कर्ज न चुका पाने के कारण लाखों किसानों की आत्महत्या, mob-lynching में मारे गए बेकसूर लोगों ,नोटबन्दी में मारे गए लोगों के नाम पर भी वोट मांग कर देख लीजिए, जनता चुनाव में इसका हिसाब लेगी। आज मोदी जी और उनकी पार्टी नागरिकों को अपनी नागरिकता साबित करने को कह रहे हैं।अपनी पार्टी के घोषणा पत्र में पूरे देश में ‘नेशनल सिटीजनशिप बिल’ लागू करने की बात कर रहे हैं।आज असम में 40 लाख गरीब भूमिहीन लोगों को अपनी नागरिकता साबित करने के लिए उनसे जमीन के स्वामित्व का कागज मांगा जा रहा है और अपने ही देश में उन्हें घुसपैठिया कहा जा रहा है।दरअसल नफरत फैलाने वालों को इसका बहाना चाहिए।ये कभी गाय के नाम पर mob-lynching तो कभी लव-जेहाद के नाम पर नफरत फैलाते हैं और अब नागरिकता के नाम पर और पता नही क्या-क्या नामों पर नफरत फैलाएंगे।यह देश के संविधान के ऊपर हमला है।ये प्रजातंत्र के चारो खंभों को नष्ट कर देना चाहते हैं।अभी चुनाव से पहले सवर्ण गरीबों को आरक्षण देने हेतु अध्यादेश लाये जिसमे सवर्ण गरीब की इनकी परिभाषा के अनुसार सालाना 8 लाख रुपये कमाने वालों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने की बात है।पिछड़ों के आरक्षण में कटौती कर मोदी जी अब खुद को पिछड़ा कह कर वोट मांग रहे हैं।अभी साध्वी प्रज्ञा ठाकुर जो मालेगांव के आतंकी ब्लास्ट की आरोपित हैं, उन्होंने बंबई आतंकी हमले में शहीद हुए पुलिस ऑफिसर हेमंत करकरे पर जो शर्मनाक बयान दिया उसे मोदी जी भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़वा रहे हैं।यह देश के शहीद जवानों का अपमान है।राफेल घोटाला ने साबित कर दिया कि इन्होंने देश की सुरक्षा के साथ गद्दारी की है।देश की जनता इसका हिसाब इस चुनाव में लेगी।उन्होंने कहा कि आज देश मे सबसे बड़ा महागठबंधन किसानों-मज़दूरों-युवाओं-महिलाओं-दलितों और अल्पसंख्यंकों का है और यही महागठबंधन कॉमरेड राजाराम सिंह को काराकाट से चुन कर संसद पहुंचाएगी।

इस सभा को संबोधित करते हुए माले केन्द्रीय कमिटी सदस्य कॉमरेड सलीम ने कहा कि इनका नारा ‘चुनाव रोक दो और पाकिस्तान को ठोंक दो’ नही चला।इस ज़ालिम हुकूमत में अकलियतों और दलितों को सड़कों पर दौड़ा-दौड़ा कर मारा गया।हुकूमत के बुलडोजर से टकराने का काम इस देश के किसानो,मज़दूरोंं और युवाओं ने किया है और यह ऐलान कर दिया है कि इस हुकूमत को जाना ही होगा।


इस अवसर पर अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्यव समिति के राष्ट्रीय संयोजक सरदार वी एम सिंह ने कहा कि राजाराम सिंह ने देश मे चल रहे किसान आंदोलन को संगठित करने में बड़ी भूमिका निभाई है।मोदी सरकार ने स्वामीनाथन आयोग की सिफारिशों जो फसलो की लागत का डेढ़ गुना मूल्य किसानों को देने की बात करता है और तमाम कर्ज माफ करने की बात करता है, उसे नही लागू कर किसानों के साथ वादाखिलाफी की है।अतः आप लोग राजाराम सिंह को संसद में अवश्य भेजिए ताकि किसानों की आवाज संसद पहुंच सके।इस अवसर पर स्वराज पार्टी के संस्थापक और किसान नेता योगेन्द्र यादव ने कहा कि माले जैसी पार्टियों के कारण ही देश मे लोकतंत्र ज़िंदा है।राजाराम सिंह ने बटाईदारों को भी किसानों का दर्जा देने की लड़ाई लड़ी है।किसानों की आवाज़ को संसद में पहुंचाने के लिए राजाराम सिंह का जीतना ज़रूरी है।ऐपवा की राज्य अध्यक्ष और आशा कर्मचारियों की नेता कामरेड शशि यादव ने कहा कि माले ने राज्य के हर तबके की इंसाफ की लड़ाई में साथ दिया है।उन्होंने आशाकर्मियों और तमाम स्कीमवर्करों से अपनी लड़ाई को मज़बूत करने हेतु माले उम्मीदवार राजाराम सिंह को विजयी बनाने का आहवान किया।

इस अवसर पर काराकाट से माले के प्रत्याशी कामरेड राजाराम सिंह ने कहा कि वे कदवन जलाशय के निर्माण और इस इलाके की जीवन-रेखा सोन नहर के आधुनिकीकरण के लिये हमेशा आवाज़ उठाते रहे और इसके किये वे सड़क से लेकर संसद तक आवाज़ उठायेंगे और लड़ेंगे।

इनके अलावा इस अवसर पर ‘अखिल भारतीय किसान महासभा’ के राष्ट्रीय सचिव कामरेड पुरूषोत्तम शर्मा और उपाध्यक्ष शिवसागर शर्मा के साथ सी पी आई के कॉमरेड सुरेश पांडेय ने भी जनता से कॉमरेड राजाराम सिंह को विजयी बनाने की अपील की।

इस मौके पर भाकपा माले के बिहार राज्य सचिव कॉमरेड कुणाल,माले पोलित ब्यूरो सदस्य कॉमरेड अमर जी,माले के पीरो से पूर्व विधायक चन्द्रदीप सिंह,माले राज्य स्थाई समिति सदस्य कामरेड निरंजन पासवान, माले राज्य कमिटी सदस्य अनवर हुसैन भी उपस्थित थे।इस सभा की अध्यक्षता माले के काराकाट से पूर्व विधायक और केन्द्रीय कमिटी सदस्य कॉमरेड अरुण सिंह ने किया।

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: