Bihar : रामगढ़ थाना प्रभारी की बर्खास्तगी व हत्यारों की गिरफ्तारी की मांग पर माले का विरोध मार्च

कैमूरे जिले के रामगढ़ में दलित लड़की की जघन्य हत्या के खिलाफ आज भाकपा-माले व ऐपवा ने जिला मुख्यालय भभुआ में प्रतिरोध मार्च निकाला. मार्च के दौरान प्रदशर्नकारियों ने रामगढ़ थाना प्रभारी की बर्खास्त करने, हत्यारे मनोज सिंह को अविलंब गिरफ्तार करने, परिजनों को 25 लाख का मुआवजा व सरकारी नौकरी देने तथा मृतक के गिरफ्तार परिजनों व अन्य लोगों को अविलंब रिहा करने की मांग कर रहे थे.

मार्च जिला कार्यालय से होकर मुख्य बाजार होते हुए पटेल चैक तक गया और एकता चैक पर नुक्कड़ सभा आयेाजित की गई. जिसका नेतृत्व जिला सचिव विजय यादव, दुखी राम, बबन सिंह, जयप्रकाश निराला, असगर खां, त्रिभुवन राम, ललन पासवान, ऐपवा नेत्री शकंुतला देवी, गीता देवी, ललन पासवान, इनौस नेता मनीष कुमार, रामएकबाल राम, लुटावन प्रसाद, सियाराम, मोरध्वज सिंह के अलावे काफी संख्या में लोग शामिल थे.

माले नेताओं ने कहा कि इस मामले में रामगढ़ थाना का व्यवहार पूरी तरह से गैर जिम्मेदाराना था. उसने धरना पर बैठे लोगों पर लाठीचार्ज करके आक्रोश को और भड़काने का ही काम किया. कुछ लोगों की गिरफ्तारी भी की गई जिसकी वजह से तनाव बढ़ा. और अपनी गलती छिपाने के लिए थाना ने अपनी दो खटारा गाड़ियों में आग लगा दी.

पुलिस पदाधिकारियों, राजनीतिक हस्तियों और भाजपा विधायक व मंत्री द्वारा मनोज सिंह को संरक्षण दिया जा रहा है. हत्यारे को बचाने के लिए प्रशासन झुठी कहानी बना रहा है. घटना के बाद भी रामगढ़ बाजार और क्षेत्र में आतंक का माहौल है. एसडीएम मोहनियां के द्वारा दुकानदारों को धमकाया जा रहा है जबकि भाजपा के जमावड़ा पर कुछ भी नहीं बोला जा रहा है.

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: