भीमराव अंबेडकर की स्मृति में जसम का दिल्ली के रोहिणी में ‘समता मेला’ का आयोजन

जन संस्कृति मंच की दिल्ली इकाई द्वारा 2 दिसम्बर 2018 को रोहिणी सेक्टर बीस में बाबा साहब भीम राव अम्बेडकर की स्मृति में सांस्कृतिक कार्यक्रम और परिचर्चा का आयोजन किया गया। अम्बेडकर के चित्र माल्यार्पण के बाद कार्यक्रम के पहले सत्र की शुरूआत विनय दिवाकर के स्वागत वक्तव्य के साथ हुई। स्थानीय वक्ताओं में से मुखराम भारती, नरेंद्र, शीलप्रिय बौद्ध, ज्योति गौतम ने बाबा साहब पर अपने विचार रखे। इस सत्र का संचालन दिवाकर ने किया।

दूसरे सत्र की शुरूआत डा. रामायन राम के वक्तव्य से हुई। जिसमें उन्होंने अम्बेडकर के हवाले से अपनी बात रखते हुए देश निर्माण में उनके योगदान को याद करते हुए उनके द्वारा स्थापित मूल्यों और सिद्धांतों पर चलने की वकालत की।

उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने न सिर्फ दलितों के मुद्दों पर अपनी आवाज बुलंद की बल्कि 1930 में बम्बई में कपड़ा मिल के कर्मचारियों की अभूतपूर्व हड़ताल के साथ ट्रेड यूनियन की राजनीति की एक समझ देश के सामने प्रस्तुत की। यही नही आज़ादी के आंदोलन के दौरान उन्होंने आज़ाद भारत में वर्ण व्यवस्था के निचले पायदान पर स्थित लोगों के भविष्य को लेकर न सिर्फ अपनी चिंताएं जाहिर की बल्कि उनके हक और अधिकार की लड़ाई भी तेज की। रामायन राम ने अम्बेडकर के योगदानों को रेखांकित करते हुए देश के अंदर लोकतंत्र की स्थापना को उनका सबसे बड़ा योगदान माना। अपनी बात खत्म करते हुए उन्होंने कहा कि आज के भारत में लोकतंत्र, वैज्ञानिक चेतना और बराबरी का संघर्ष जहां भी है वहां अम्बेडकर का विचार है।

इस भाषण के बाद संगवारी थियेटर ग्रुप द्वारा हिंदी के प्रसिद्ध कवि अदम गोंडवी की कविता ‘चमारों की गली’ का भावपूर्ण नाट्य रूपान्तरण प्रस्तुत किया गया।

कार्यक्रम के अगले वक्ता के रूप में आलोचक आशुतोष कुमार ने कहा कि आज के समय में हर सरकार अपने को बाबा साहब अम्बेडकर का परम भक्त बताने की होड़ में लगी है। लेकिन उन सरकारों ने बाबा साहब के संविधान का क्या हश्र किया जगजाहिर है। पिछले कुछ दशकों में दलितों के प्रति अपराध के आंकड़े कम होने के बजाय और बढ़ गए हैं। आशुतोष ने कहा कि एक तरफ तो प्रधानमंत्री यह कहते नहीं थकते कि उन्होंने जितना अम्बेडकर के लिए किया उतना आज तक किसी ने नहीं किया लेकिन जब वो अपने विदेशी दौरे पर जाते हैं तो अपने समकक्ष को वही गीता भेंट देते हैं जिसमें चतुर्वर्ण व्यवस्था का प्रावधान है। इससे यह पता चलता है कि ये नेता बाबा साहब की चेतना के साथ क्या करना चाहते हैं।

उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर क्या कारण है कि छः दिसम्बर जो बाबा साहब का परिनिर्वाण दिवस है उसी दिन बाबरी मस्जिद को तोड़कर भारतीय संविधान की बर्बर हत्या करने के लिए क्यों चुना गया? उन्होंने कहा कि बाबा साहब ने बुद्ध का रास्ता इसलिए चुना क्योंकि यह रास्ता अंधी आस्था के खिलाफ विवेक के पक्ष में है। बुद्ध ने सबसे पहले यह घोषित किया कि इंसान और इंसान के बीच भेदभाव नहीं किया जा सकता। उन्होंने बाबा साहब के हवाले से कहा कि जैसा वर्गहीन, जातिविहीन और बराबरी का समाज मार्क्स बनाना चाहते थे कमोबेश वैसा ही समाज बुद्ध भी बनाना चाहते थे। इसलिए आज के समय में जरूरत है बाबा साहब ने जो चेतना पैदा की है उसकी आग को गली-गली तक पहुचाया जाए, तभी हम आज के समय में बाबा साहब के नाम पर की जा रही तमाम साजिशों को विफल कर पाएंगे।

कार्यक्रम के तीसरे और आखिरी सत्र में कविता पाठ का आयोजन किया गया। इस सत्र में मुख्यतः डा. टेकचंद और जगदीश सौरभ ने अपनी कविताएं प्रस्तुत की। उन्होंने अपनी कविता ‘राम लला हम आएंगे’ समेत कई कविताओं का पाठ करके श्रोताओं के दिल में जगह बना ली और इसके माध्यम से वर्तमान राजनीतिक सांस्कृतिक परिदृश्य पर कड़ा व्यंग्य किया।

तीसरे सत्र के अंत मे संगवारी थियेटर ग्रुप ने बाबा साहब अम्बेडकर और भगत सिंह के विचारों पर केंद्रित नाटक की प्रस्तुति दी। जिसमें बाबा साहब और भगत सिंह महत्वपूर्ण कथनों और विचारों का ऐसा नाट्य रूपांतरण प्रस्तुत किया कि उपस्थित लोगों के भीतर एक खास तरह की स्फूर्ति और जोश का एहसास हुआ। नाटक के बीच में ही लोग इंकलाब जिंदाबाद के नारे बुलन्द करने लगे। दोनों ही नाटकों के निर्देशन कपिल शर्मा ने किया।

दूसरे और तीसरे सत्र का संचालन जन संस्कृति मंच, दिल्ली के सचिव राम नरेश राम ने किया। इस आयोजन के मुख्य सूत्रधार, व्यस्थापक और सामाजिक कार्यकर्ता सत्यप्रकाश बौद्ध जी ने उपस्थित लोगों को धन्यवाद दिया।

इस दौरान पोस्टर प्रदर्शनी और पुस्तक मेले का भी आयोजन भी किया गया। आयोजन स्थल को सजाने के लिए जिन पोस्टरों का प्रयोग किया गया था उसको मशहूर चित्रकार अशोक भौमिक ने तैयार किया था। पुस्तक मेले में नवारुण प्रकाशन, गार्गी प्रकाशन और द मर्जिनलाइज्ड प्रकाशन ने अपने स्टॉल लगाए थे.

इस कार्यक्रम में स्थानीय लोगों के अलावा बुद्धिजीवियों, छात्र-छात्रओं, महिलाओं और छोटे बच्चों की उपस्थिति उल्लेखनीय थी। पूरे मेले का आयोजन आम लोगों के सहयोग से हुआ. समता मेले में शामिल लोगों में कहानीकार योगेंद्र आहूजा, संजय जोशी, वंदना सिंह, तूलिका, मृत्युंजय, अवधेश आदि उपस्थित रहे।

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: