कामरेड बालमुकुंद पंडित

पटना जिले के नौबतपुर प्रखंड के अमरपुरा गांव के वरिष्ठ कामरेड बालमुकुंद पंडित गत 13 मई 2018 की रात एक बजे हम सबों को छोड़ चल गए। वे 65 वर्ष के थे. कामरेड बालमुकुंद शुरूआती दौर से भाकपा(माले) के साथ मजबूती से जुड़े रहे और भूमिगत जीवन की बिकट स्थिति में भी वे पार्टी और क्रांति पर अटल रहे। वे आम जनता के बीच काफी लोकप्रिय थे और पार्टी के स्तम्भ थे.

कामरेड बालमुकुंद ने 1980 के दशक में अपने क्षेत्र में सामंतवाद-विरोधी एवं सरकार विरोधी संघर्षों का साहस के साथ नेतृत्व दिया और हर जोर-जुल्म का डटकर विरोध किया. वे क्रांतिकारी कार्यकर्ताओं के लिये मॉडल थे. सांस की बीमारी से ग्रस्त होने के बावजूद कामरेड बालमुकुंद सक्रिय रहे और पटना अस्पताल से 11 मई को ही वापस आये थे. उनका निधन पार्टी के लिये बड़ी क्षति है. पार्टी उनके परिजनों एवं स्थानीय कामरेडों के शोक में हिस्सेदार है.

और पढ़ें

ऊपर जायें
%d bloggers like this: